Skip to main content

'मुंशी प्रेमचंद'—जन्मदिन विशेष

     'हल्कू ने आकर स्त्री से कहा—सहना आया है, लाओ, जो रुपए रखे हैं, उसे दे दूं, किसी तरह गला तो छूटे'...। 

       ये पंक्तियां हिन्दी के महान लेखक, उपन्यासकार, संवेदनशील रचनाकार और युग प्रवर्तक मुंशी प्रेमचंद जी द्वारा रचित कहानी 'पूस की रात' में लिखी गई हैं। जो आज भी उतनी ही प्रासंगिक हैं जितनी कि उस वक़्त थी, जब ये लिखी जा रही थी। आज इस महान लेखक का जन्मदिवस हैं। 


      मुझे लगा इस मौके पर इस कहानी का जिक्र होना चाहिए। यूं तो आप में से कईयों ने इसे अपने कोर्स की क़िताबों में भी पढ़ा होगा लेकिन आज जितनी परिपक्वता से आप इस कहानी के मर्म और द्वंद को समझेंगे उतना शायद बचपन की पढ़ाई के दौरान नहीं महसूस किया होगा। 

       खेती करना कोई आसान बात नहीें..। न जानें कितनी ही मेहनत करके भी कई बार उतने दाम नहीं मिल पाते जिससे जीवन की गुज़र—बसर मजे में हो सके..। प्रेमचंद जी ने हल्कू और मुन्नी के माध्यम से खेती और उसकी रखवाली करने का दर्द...और कैसे जरुरत पड़ने पर एक कम्बल तक न खरीद पाने की मजबूरी को बयां किया हैं...। 

     काफी अंर्तद्वंद के बाद कर्ज में डूबा हल्कू, सहना का उधार चुकाना अधिक ज़रुरी समझता हैं और माघ—पूस की रात में बिना कम्बल के रहना मंजूर कर लेता हैं। खेती की रखवाली करते हुए हल्कू पूस की अंधेरी रात अपने संगी कुत्ता जबरा के साथ पुरानी चादर ओढ़े हुए गुज़ारता हैं...। 

   लेकिन उसे एक क्षण भर के लिए भी नींद नहीं आती। उसके हाथ—पैर ठिठुरने लगे...कपकपी छूटने लगी...कभी चिलम पीता तो कभी आग जलाता। उसके सारे जतन तेज ठंड के आगे कमज़ोर पड़ रहे थे...। 

   जुगाड़ करके हल्कू गर्म राख के पास जबरा के साथ बैठा रहा। शीत बढ़ती गई और आलस्य उसे दबाने लगा। तभी उसे महसूस हुआ कि खेत में जानवरों का झुण्ड आया हैं। जबरा भूंकता रहा..हल्कू ने पक्का इरादा किया और दो—तीन कदम चला, लेकिन ठंड के थपेड़ों ने उसे आगे बढ़ने न दिया...। उसके भीतर का द्वंद कभी चढ़ता तो कभी उतरता...ऐसी कशमकश उसके भीतर थी मानो आज कोई फैसला हो जाना है और फिर देखते ही देखते सारा खेत साफ हो गया। 

      सुबह उसकी पत्नी मुन्नी आई तो खेत का सत्यानाश देखकर बेहद उदास हो गई...। लेकिन हल्कू और जबरा ही जानता था कि पूस की रात कैसी कटी...। उसने खुश होते हुए मुन्नी से कहा, चलो अब इस रात की ठंड में यूं खेतों में तो नहीं सोना पड़ेगा....। 


    निश्चित ही कहानी में एक विशेष परिस्थिति को प्रेमचंद जी ने उजागर किया था। जिसके अंत ने एक समाधान भी दिया हैं...। ये प्रेमचंद ही थे जिन्होंने कहानी का अंत सकारात्मक और सच के करीब लाकर छोड़ा...। 

      उनकी कहानियों और उपन्यास में शहरी, कस्बाई और ठेठ देहाती जीवन के सजीव चित्र मिलते हैं...।  पंचपरमेश्वर, कफ़न, शतरंज के खिलाड़ी, सद्गति,ठाकुर का कुआं, बड़े भाई साहब, सुहाग की साड़ी, बूढ़ी काकी, ईदगाह, मंत्र सरीखी कहानियों में उनकी शैली के विभिन्न रुप—रंग मिलते हैं...

       जो पाठक के मन को कहीं न कहीं झंकझौरते हैं और उसके साथ जुड़ाव भी महसूस कराते हैं...। एक बार पुन: इस महान लेखक की कृति और जयंती पर  नमन...। 

       


       

Comments

  1. प्रेमचंद जी को समर्पित यह एक ख़ूबसूरत आलेख है।उनकी लेखनी की अंतरंग तहों को आपने अपनी लेखनी से बख़ूबी खोल कर रख दिया है।।
    धन्यवाद एवं बधाई 💐💐

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी धन्यवाद 🙏मुझे अगर आपका नाम पता होता या आपका नाम शो होता तो आप को संबोधित करने में आसानी होती।

      Delete
  2. उपन्यास सम्राट की जयंती पर सादर नमन।
    बहुत सुंदर लेख 👌🏻

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

'अर्थी' का बोझ ही शेष....

    सूजी हुई आंखें...कपकपाते हाथ...और छाती  में धड़क रहा बेबस कलेजा...बैठा हैं सड़क पर उन खिलौनों के बीच जो मासूम कांधे पर सवार होकर आज मेले में बिकने आए थे। लेकिन जो हाथ इन्हें बेच रहे हैं उनमें अब वो जान नहीं बची जो महज़ कुछ घंटों पहले तक थी। इन हाथों में मजबूर हालातों की उस अर्थी का बोझ ही शेष रह गया हैं जो सिर्फ सहारा बनकर मेले में आई थी...।    पड़ोस के गांव में आज मेला भरा है। कमला इस बात से बेहद खुश है। वो सोचती हैं मेले में खिलौने बेचकर कुछ पैसा कमा लेगी जो बीमार पति के इलाज और घर चलाने के काम आ जाएगा। इसीलिए वो अपने ही गांव के एक व्यापारी से करीब तीस हजार रुपए के खिलौने उधार ले आती हैं।     ये व्यापारी उसे कहता हैं कि कमला वैसे तो हर बार तू खिलौने ले जाती हैं और समय पर पैसा भी चुका देती हैं। इस बार तूने ज़्यादा उधारी की हैं, मेले से आते ही पैसा चुका देना।         कमला हंसकर कहती हैं......होओ सेठ। आज तक शिकायत का मौका नहीं दिया है.....इस बार भी नहीं दूंगी। ऐसा कहते हुए वो घर पर आती है और अपनी दोनों बेटियों के साथ मेले में जाने की तैयारी करती है।         वह अपने बीमार पति को खान

मीरा का ‘अधूरा’ प्रेम...पार्ट-2

         देव बिना रुके बोलता रहा। उसकी बातें सुनने के बाद मैंने उससे पूछा कि , तो क्या देव वो पत्र मीरा ने नहीं पढ़ा था? हैं ईश्वर...! उस रात मुझसे कितनी बड़ी भूल हो गई। मैंने मीरा की बातों पर क्यूं भरोसा नहीं किया...?   ओह! मीरा मुझे माफ कर दो। ‘वह चिल्लाती रही, प्रेम मेरा विश्वास करो...मैं इस पत्र के बारे में कुछ नहीं जानती...।      काश! उस दिन उस वक़्त मीरा की बातों पर भरोसा किया होता...। देव की बातें सुनने के बाद मैंने उसे बताया कि उस रात तुम्हारें जानें के बाद मैं,  मीरा के घर पहुंचा था। मीरा ने बताया था कि तुम उससे मिलकर कुछ ही देर पहले निकलें हो। मैंने उससे कहा कि ठीक हैं तुम एक ग्लास पानी ले आओ। वह पानी लेने गई। मैंने इधर-उधर देखा और फिर मेज़ पर रखी क़िताब को उठाया। मैंने ऐसे ही उसके पन्ने पलटना शुरु किए। तभी उसके अंदर से एक कागज़ गिरा। ये तुम्हारा पत्र था।     इसकी पहली पंक्ति में लिखा था कि प्लीज पढ़ने के बाद नाराज़ नहीं होना...। ये पढ़कर मैं खु़द को रोक नहीं पाया और पत्र को पढ़ने लगा।      पत्र की शुरुआत ‘डियर मीरा’ से हुई। यह पढ़ते ही मेरी छाती फट गई। मानों किसी ने गहरा वार किया हो.

स्वदेशी खेल...राह मुश्किल

        हाल ही में केंद्रीय खेल मंत्रालय ने 'खेलों इंडिया यूथ गेम्स—2021' में चार स्वदेशी खेलों गतका, कलारीपयट्टू, थांग—ता और मलखम्ब को शामिल किया हैं। कोरोनाकाल के बीच सुखद अहसास का अनुभव कराती हुई ये ख़बर वाकई खेल जगत और खिलाड़ियों के लिए एक सकारात्मक और दूरदर्शी फैसला हैं।      हमारी भारतीय संस्कृति हमेशा से ही समृद्ध और संपन्न रही हैं। चाहे वो हमारे वैदिक संस्कारों की बात हो या फिर खान—पान, वेशभूषा, रहन—सहन और पांरपरिक खेलों की। ये ही असल में हमारी पहचान भी हैं।      ऐसे में स्वदेशी खेलों को आगे बढ़ाने से ना​ सिर्फ 'पारंपरिक खेलोें' को अंतरराष्ट्रीय खेल मंचों पर पहचान मिलेगी बल्कि देश के गांव—कस्बों में रहने वाले हजारों लाखों युवाओं को भी आगे बढ़ने का मौका मिल सकेगा।      हमारे गांवों की प्रतिभाएं हमारी संस्कृति और पंरपरा को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित करने की दिशा में आगे बढ़ सकेंगी। क्योंकि हमारे ये ही पारंपरिक खेल विभिन्न भारतीय राज्यों की सांस्कृतिक और पारंपरिक पृष्ठभूमि को भी दिखाते हैं।       यदि हम अपने पारंपरिक खेलों की बात करें तो उसमें ना सिर्फ जीवन जीने