Skip to main content

'पारंपरिक खेल' क्यों नहीं...?

'बाल दिवस' पर विशेष———

ये कहानी हैं एक ऐसे बचपन की जिसमें धूल और मिट्टी से सने हाथ और पैर हैं...। ये कहानी हैं एक ऐसे अल्हड़पन की जो बेफिक्र था 'कॉम्पीटीशन' की चकाचौंध वाले गैजेट्स से...। ये कहानी हैं एक ऐसे बचपन की जहां दोस्ती की छांव में ऊँच-नीच का भेद न था...ये कहानी है एक ऐसे बचपन की जब पीट पर थप्पी मारते ही दौड़ शुरु हो जाया करती थी...ये कहानी हैं एक ऐसे बचपनें की जहां 'खेल' सिर्फ खेलने भर के लिए ही खेले जाते थे, जिसमें अपनापन भी था और ज़मीन से जुड़ाव भी। 

सिद्धी शर्मा 


कहां गुम हो गए हैं वो कंचें और चीयों की खन—खन...वो पत्थर का गोल सितोलिया...और वो लंगड़ी पव्वा...। 

  वो कपड़ें की गेंद का पीट पर मारना तो हाथ पकड़कर वो फूंदी लेना...। वो 'ता' बोलकर कहीं छुप जाना, फिर पीछे से आकर 'होओ' कहकर डरा देना...। 

    कहीं बहुत पीछे छूट गया हैं 'शायद' वो बचपन....और छूट गई है वो 'चिल्ला पौ'...। कहीं पीछे छूट गए हैं वो परंपरा से बंधें खेल...जो आज के 'बचपनें' से कोसो दूर हो चले हैं...। मलाल है इस बात पर कि, वर्तमान पीढ़ी में ये खेल अब नहीं खेले जा रहे हैं। आज का बच्चा नहीं जानता है इन खेलों के बारे में...। 

      हां, गांव—ढाणियों में ज़रुर ये पारंपररिक खेल अब भी कहीं—कहीं जीवित हैं...। गांवों की मिट्टी से सने हुए नन्हें हाथ—पैर अब भी गली मोहल्लों में कहीं—कहीं 'गिल्ली—डंडा'...'लंगड़ी कूद'...'पकड़म पाटी'...छुपम छईयां...जैसे खेल खेलते हुए नज़र आ जाएंगे। लेकिन आभासी दुनिया के गैजेट्स इन मिट्टी लगे हाथों से भी दूर नहीं हैं। 

      शहरों में बच्चों की मजबूरी कहें या समय की मांग...जब अधिकतर बच्चें के हाथों में ये गैजेट्स होना आम बात हो चली हैं। रही सही कसर 'कोरोनाकाल' ने पूरी कर दी हैं। ऑनलाइन क्लास की मजबूरी ने बच्चों को मोबाइल, टैब, लेपटॉप, कम्प्यूटर जैसे उपकरणों के अधिक क़रीब ला दिया हैं। ऐसे में बच्चे इन उपकरणों के समय पूर्व इस्तेमाल के आदि हो चले हैं। 

     लेकिन इस 'कोरोनाकाल' को छोड़ दिया जाए तो भी इससे पूर्व के सालों में भी ये खेल नदारद ही दिखाई देते हैं। इस बात को मानने और न मानने के कई बहाने होंगे।

    लेकिन सवाल ये हैं कि क्या हम फिर से वही पुराने खेल अपने बच्चों को नहीं खेला सकते...? क्या वाकई ये इतना मुश्किल हो चला है...? या फिर हमनें ख़ुद ही ये उम्मीद इस विश्वास के साथ छोड़ दी हैं कि अब तो गैजेट्स का ही ज़माना हैं, इस पीढ़ी के बच्चों को इसी के साथ 'जीना' और 'खेलना' होगा...। फिर चाहे उनका मानसिक पतन ही क्यूं न हो रहा हो...। क्या आपको नहीं लगता कि बच्चा जो खेल अब खेल रहा हैं वो उसके शारीरिक और मानसिक विकास के लिए सही नहीं हैं...। कुछ खेलों को छोड़ दिया जाए तो अधिकतर खेल उसके हाथ की अंगुलियों से संचालित हो रहे हैं...। इसे आप इनडोर गेम्स की श्रेणी में शामिल होना कह सकते हैं...। तो क्या ये सच में 'खेल' हैं....?

      इस 'बाल दिवस' पर एक बार ठहर कर ज़रुर सोचिए। क्या सच में इस पीढ़ी को पुराने खेलों के प्रति आकर्षित करना मुश्किल हैं...? शायद बिल्कुल भी नहीं...। हम क्यूं नहीं सीखा सकते हैं वो खेल जो शुरु से ही इको फ्रेंडली और शारीरिक व मानसिक रुप से स्वस्थ्य हुआ करते हैं। इतना ही नहीं ये पारंपरिक खेल हरेक की पहुंच में भी शामिल हैं। फिर चाहे वो सबसे निचले छोर पर खड़ा बच्चा ही क्यूं न हो। इन खेलों के लिए कोई बड़ा खर्च करने की भी ज़रुरत नहीं हैं। 

   इस वक़्त ज़रुरत है तो बस अपनी सोच बदलकर एक नई शुरुआत करने की। 

   'कहानी का कोना' के माध्यम से पारंपरिक खेलों के बारे में पाठकों से सुझाव और उपाय मांगे गए थे। इस पर कई लोगों के बेहतर सुझाव प्राप्त हुए। जिसे नीचे साझा किया जा रहा हैं। 

-----------------

—बच्चों की बर्थडे पार्टी दिन में रखकर घर के बड़े लोग खुद भी पारंपरिक खेलों को खेलें और बच्चों को खिलाकर उनकी रूचि बढ़ाएं। सोसाइटी में जैसे सोसाइटी मीटिंग होती है, महिलाओं की किटी होती है। 


उस तरह बच्चों के लिए कुछ पारंपरिक खेलों की प्रतियोगिता रखी जाए। जब भी पिकनिक पर जाएं मोबाइल को आराम करने दें और रस्सी कूदना, सितोलिया खेलना, छुपा— छुपी खेल जैसे गेम बच्चों के साथ खेलें। 

उषा शर्मा, रिटायर नर्सिंगकर्मी

जयपुर

—————

—सबसे पहले बच्चों की पसंद और नापसंद जानें। उसे अपने बचपन की यादों में लेकर जाएंं। उसकी जिज्ञासा जिस भी खेल के साथ अधिक हो तब स्वयं उसके सा​थ खेलकर दिखाएं। ऐसे में उसे उस पारंपरिक खेल के प्रति रुचि पैदा होगी। 

प्रेम कुमार, प्रोफेसर

जबलपुर

————

— बच्चों को सही मायने में समय देने की ज़रुरत हैं। वे क्या खेल खेल रहे हैं इस पर निगरानी रखते हुए उन्हें बीच—बीच में पारंपरिक खेलों के साथ जोड़ा जा सकता हैं।


बच्चा नहीं समझता है कि क्या सही हैं और क्या ग़लत। पेरेट्स और घर के बड़े बुजुर्ग उन्हें बताएं। सिर्फ ये कहना कि बच्चा दिनभर मोबाइल चलाता रहता हैं और उसे ऐसे ही छोड़ दिया जाए ये बिल्कुल भी सही नहीं हैं। घर के लोगों की जिम्मेदारी हैं उसे एक बेहतर खेल का माहौल देने की।   

वैदेही वैष्णव, लेखक 

उज्जैन 

——————

—हमें इस बात से इंकार नहीं करना चाहिए कि इंटरनेट ने जीवन को सरल बना दिया हैं। इसका इस्तेमाल वर्तमान समय की ज़रुरत हैं। जड़ों से जोड़ने के लिए परिवार में एक दिन ऐसा हो जब सारे लोग मिलकर अपने—अपने समय के खेलों से बच्चों का परिचय कराए और इसे खेलने के लिए प्रेरित करें। बच्चे ना नहीं कहेंगे, उन्हें भी ऐसे ही खेल खेलने में मज़ा आएगा। हमें ही बच्चों को समय देना होगा।  

सुशीला त्रिवेदी, गृहिणी

जयपुर

इन सुझावों के अलावा भी 'कहानी का कोना' में प्रकाशन के लिए मिलेजुले सुझाव प्राप्त हुए हैं। इनमें शामिल हैं— उदयपुर से प्रतीक सैनी, जयपुर से आशा शर्मा और गीता पारीख, चित्तौड़गढ़ से सोनित शर्मा और बिलासपुर से रवि शाह। 





Comments

  1. आशा है कहानी का कोना के माध्यम से किसी ना किसी को मेरे सुझाव पसंद आएंगे धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. उषा जी तहे दिल से आपको धन्यवाद 🙏🙏 अपना अमूल्य समय निकाल कर कहानी का कोना के लिए अपना सुझाव भेजा है इसके लिए आपको पुनः धन्यवाद। उम्मीद है कि आगे भी आप कहानी का कोना से इसी तरह से जुड़ी रहेंगी।

      Delete
  2. बेहतरीन लेखनी।।और बहुत ही खूबसूरत विषय।।दरअसल बच्चे हमारा भविष्य हैं और उनके लिए हमेशा बचकाना व्यवहार जी करते हैं हम बड़े।।।ऐसे में इतना प्यारा लेखन सुकून देता है।।।इस आलेख के लिए बहुत सी बधाई आपको🙏🏻🙏🏻🙏🏻👌👌👌💐

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बहुत-बहुत धन्यवाद आपका 🙏आप अपना नाम भी लिखकर भेजते तो मुझे संबोधन करने में सरलता होती। मैं दिल से आपका शुक्रिया अदा करती हूं कि आपने इस लेख को पसंद किया पुनः धन्यवाद।

      Delete
  3. जाने कहाँ गए वो दिन ...
    आपकीं लेखनी हमेशा ही ऐसे विषयों पर ज़ोर देतीं हैं जो नितांत आवश्यक होंते हैं.. आज के तकनीकी समय में बच्चें पारंपरिक खेलों से कोसों दूर हैं औऱ यहीं बात उन्हें भविष्य में कम उम्र में ही गम्भीर बीमारियों से ग्रसित कर देतीं हैं। इसलिए अभिभावकों को इस तरह के खेलों से अपने बच्चों को परिचित करवाना चाहिए । मेरी शादी हुई तब मैं इस बात का विशेष ध्यान रखूँगी। मेरे सुझाव को कहानी का कोना में प्रकाशित करने के लिए धन्यवाद ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल ठीक ही लिखा है आपने वैदेही जी 🙏 उम्मीद करते हैं कि आगे भी आप कहानी का कोना के लिए अपने महत्वपूर्ण सुझाव हमें भेजती रहेगी। आपका तहे दिल से शुक्रिया।

      Delete
  4. अच्छा लेख है, बचपन के खेलों से बच्चों को बड़े स्तर पर खेल खेलने का माहौल मिलता है तथा जीवन में हार - जीत, टीम प्रबंधन आदि की भी समझ विकसित होती, लेख पढ़कर ऐसा लगा कि आप भी अच्छी एथलीट रहीं होगीं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी आपका धन्यवाद 🙏🙏 हां आपका अनुमान ठीक है, मैं भी एक एथलीट रही हूं।

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

स्वदेशी खेल...राह मुश्किल

        हाल ही में केंद्रीय खेल मंत्रालय ने 'खेलों इंडिया यूथ गेम्स—2021' में चार स्वदेशी खेलों गतका, कलारीपयट्टू, थांग—ता और मलखम्ब को शामिल किया हैं। कोरोनाकाल के बीच सुखद अहसास का अनुभव कराती हुई ये ख़बर वाकई खेल जगत और खिलाड़ियों के लिए एक सकारात्मक और दूरदर्शी फैसला हैं।      हमारी भारतीय संस्कृति हमेशा से ही समृद्ध और संपन्न रही हैं। चाहे वो हमारे वैदिक संस्कारों की बात हो या फिर खान—पान, वेशभूषा, रहन—सहन और पांरपरिक खेलों की। ये ही असल में हमारी पहचान भी हैं।      ऐसे में स्वदेशी खेलों को आगे बढ़ाने से ना​ सिर्फ 'पारंपरिक खेलोें' को अंतरराष्ट्रीय खेल मंचों पर पहचान मिलेगी बल्कि देश के गांव—कस्बों में रहने वाले हजारों लाखों युवाओं को भी आगे बढ़ने का मौका मिल सकेगा।      हमारे गांवों की प्रतिभाएं हमारी संस्कृति और पंरपरा को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित करने की दिशा में आगे बढ़ सकेंगी। क्योंकि हमारे ये ही पारंपरिक खेल विभिन्न भारतीय राज्यों की सांस्कृतिक और पारंपरिक पृष्ठभूमि को भी दिखाते हैं।       यदि हम अपने पारंपरिक खेलों की बात करें तो उसमें ना सिर्फ जीवन जीने

'फटी' हुई 'जेब'....

आज 'फादर्स—डे' हैं। ये दिन पिता के प्रति अपनी कृतज्ञता दिखाने का ​सिर्फ एक माध्यम हैं। निश्चित ही बदलते वक़्त के साथ आज एक गंभीर और कड़क स्वभाव वाले पिता की जगह 'नरम दिल' और 'दोस्ताना' व्यवहार के साथ आज का पिता खड़ा हैं। यह एक अच्छा साइन भी हैं...।       पिता चाहे गरीब हो या अमीर वह सिर्फ अपने बच्चों की इच्छाएं पूरी करने में लगा रहता हैं...   और असल में यहीं हमारी संस्कृति का हिस्सा भी हैं। इसी भावनात्मक रिश्तें पर आधारित हैं ये कविता....।       बाप की 'फटी' हुई जेब से जो ख्वाहिशें पूरी हुई        वो 'बेहिसाब' हैं...।   खिलौना खरीदने की औकात न थी, फिर भी खरीद कर दे देने की    उनकी हिम्मत  भी  'बेहिसाब' हैं।   सिद्धी शर्मा     'राजकुमारी' की तरह अपनी पलकों पर बैठाकर रखने का      उनका हौंसला भी बेहिसाब हैं..।      इच्छा पूरी न कर पाने की उनकी अपनी    मजबूरियां  भी बेहिसाब हैं...।      आंखों में आंसूओं को छुपाकर रख लेने का उनका      अंदाज भी बेहिसाब हैं...।      और मेरी खुशी देख अपने होंठों पर मुस्कान सजाकर      रखना भी 'बेहिसाब&

टूट रही 'सांसे', बिक रही 'आत्मा'

   देश कोरोना से 'कराह' रहा हैं। कोरोना की दूसरी लहर खतरनाक होती जा रही है। यह महामारी अब दिल दहलाने लगी हैं। भारत में इस कोरोना वायरस के  संक्रमण से जान गंवाने वालों की संख्या थमने का नाम नहीं ले रही। बीते दस  दिनों में ही भारत में 3 लाख से अधिक संक्रमित मामले दर्ज किए गए हैं। स्थिति यह हो गई है कि एक दिन में ही रेकार्ड 3,000 से भी ज्यादा लोगों की जानें जा रही है।       संक्रमण के इन बढ़ते आंकड़ों के बीच अपनों को खोते जा रहे हैं लोग...। चारों ओर शमशान घाटों पर शवों की लंबी कतारें लगी हुई हैं...अपनों की एक—एक सांसे बचाने के लिए लोग इधर—उधर भाग रहे हैं...। कभी डॉक्टर्स तो कभी अधिकारियों व मंत्रियों के पैरों में गिर ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए गिड़गिड़ा रहे हैं। इस बेबसी की 'आह' का शोर कानों को चीर रहा हैं। मजबूरी चीख रही हैं, बचा लो 'साहब'...।       लेकिन इन डरावनें हालातों के बीच ऐसे बदसूरत और घिनौने चेहरे भी सामने आ रहे हैं जो कहने को तो 'ज़िंदा' हैं लेकिन इनकी आत्मा मर चुकी हैं। इंसान के भेष में ये शैतानी लोग हैवानियत की सारे हदें पार कर रहे हैं। मरीज ऑक्स